9 महीने में 150 फीसदी बढ़े शुगर स्टॉक

0
85
नई दिल्ली:एजेंसी। साल 2017 में में शुगर कंपनियों के स्टॉक्स ने निवेशकों को काफी ऊंचा रिटर्न दिया है। शुगर स्टॉक्स में ये बढ़त 2015 के शुगर सीजन की शुरुआत के साथ देखने को मिल रही है। हालांकि एक्सपर्ट्स अब मान रहे हैं कि हाई प्रोडक्शन और ऊपरी लेवल पर पहुंचे स्टॉक्स की वजह से निवेशकों को इन स्टॉक्स को लेकर अब सतर्क रूख अपना लेना चाहिए।
 24% ज्यादा चीनी प्रोडक्शन का अनुमान
इंडियन शुगर मिल्स एसोसिएशन के मुताबिक, आगामी सीजन में चीनी का प्रोडक्शन 24 फीसदी बढ़कर 2.51 करोड़ टन होने का अनुमान है। अच्छे मानसून की वजह से चीनी प्रोडक्शन में बढ़ोतरी हुोने की उम्मीद है। 2016-17 के मार्केटिंग ईयर (अक्टूबर-सितंबर) में चीनी का प्रोडक्शन 2.02 करोड़ टन हुआ था।
सरकार ने त्योहारी मौसम के दौरान चीनी की सप्लाई बढ़ाने के लिए 25 फीसदी की रियायती दर पर 3 लाख टन कच्ची चीनी का आयात करने की दक्षिण की चीनी मिलों को अनुमति दी है। देश में 2.77 करोड़ टन चीनी का स्टॉक है। इसमें वर्ष 2016-17 का 2.02 करोड़ टन का उत्पादन और इस साल अप्रैल-मई में 5 लाख टन का आयात और पिछले साल का 70 लाख टन का बचा हुआ स्टॉक शामिल है।
 गन्ने की हुई बंपर बुआई
साल 2016-17 में गन्ने की बुआई 45.67 लाख हेक्टेयर में हुई थी। वहीं इस साल गन्ने की बुआई 49.88 लाख हेक्टेयर में होने का अनुमान है। इसके अलावा इस साल मानसून अच्छा रहने से चीनी का प्रोडक्शन बढ़ सकता है।
 यूपी में प्रोडक्शन 19 फीसदी बढ़ने का अनुमान
उत्तर प्रदेश में इस साल गन्ने की बुआई एरिया 11 फीसदी से ज्यादा बढ़ा है। यहां इस साल चीनी उत्पादन पिछले साल के मुकाबले 19 फीसदी बढ़कर 1 करोड़ टन ज्यादा रहने का अनुमान है। 2016-17 में महाराष्ट्र और कर्नाटक में चीनी उत्पादन में गिरावट देखने को मिली थी। हालांकि 2017-18 में प्रोडक्शन बढ़कर 84 से 85 लाख टन होने का अनुमान है। वहीं कर्नाटक में चीनी प्रोडक्शन इस साल 80 फीसदी बढ़कर 40 लाख टन होने का अनुमान है।
 सरकार 5% बढ़ा सकती है इथेनॉल की कीमत
ग्रीन फ्यूल को बढ़ावा देने और पेट्रोलियम इंपोर्ट घटाने के उद्देश्य से सरकार इथेनॉल की कीमतों में 5 फीसदी का इजाफा कर सकती है। इसका फायदा शुगर मिल कंपनियों को मिल सकता है, क्योंकि देश में शुगर कंपनियों इथेनॉल बनाती हैं और ऑयल मार्केटिंग कंपनियों को बेचती हैं। इथेनॉल की कीमत बढ़ने से कंपनी के रेवेन्यू में बढ़ोतरी होगी।
केडिया कमोडिटी के डायरेक्टर अजय केडिया का कहना है कि इसका फायदा गन्ना किसानों को भी मिलेगा। शुगर कंपनियां बढ़ी कीमतों का हिस्सा किसानों से शेयर करेंगी।
मुनाफावसूली की सलाह 
वीएम फाइनेंशियल के रिसर्च हेड विवेक मित्तल के मुताबिक शुगर स्टॉक्स में अगर को शख्स मुनाफा कमा रहा है तो वो अब स्टॉक से निवेश निकाल सकता है। शुगर कीमतों में फेस्टिव सीजन के दौरान बढ़त को छोड़ दे तो आने वाले समय में कीमतों में कोई खास बढ़त का अनुमान नहीं है। ऐसे में ऊचीं ग्रोथ दर्ज कर चुके इन स्टॉक्स में से निकलना ही बेहतर होगा।
100 फीसदी से ज्याद चढ़े ये शुगर स्टॉक्स
पिछले साल कम प्रोडक्शन होने की वजह से चीनी की कीमतों में तेजी आई थी, जिसका फायदा कंपनियों को मिला था। साल 2017-18 के पहले 9 महीनों में शुगर कंपनियों के स्टॉक ने निवेशकों को 100 फीसदी से ज्यादा रिटर्न दिया है। इनमें आंध्रा शुगर, अवध शुगर, मवाना शुगर, उत्तम शुगर शामिल हैं।
कंपनी स्टॉक रिटर्न (%)
अवध शुगर 160.08%
आंध्रा शुगर 116.35%
मवाना शुगर 122.51%
उत्तम शुगर 143.40%

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)